समर्थक

Wednesday, July 12, 2017

तुम सहते जाना



तुमको अगर कोई कुछ भी कहे,
तुम कुछ ना कहना|
लोग तुम्हें चाहे दे गाली,
तुम सहते जाना||


तुम्हें करे विश्व बदनाम,
बस मौन साधना|
करे अन्याय का वार,
तुम सहते जाना||


तुम हो सहिष्णु भारतीय,
तुम्हारा धैर्य ही अभिमान है|
गर कहे तुम्हें असहिष्णु,
तुम सहते जाना||


सहते रहे हम सदा,
किन्तु अब ना सहना|
माँ भारती पर हो रहा है वार,
अब तुम चुप ना रहना||


नींद से जागो हे वीर पुरुष,
परशुराम बन जाओ तुम|
इन देश के दुश्मन कायरो को,
सर्वनाश कर जाओ तुम||