समर्थक

Tuesday, November 24, 2015

असहिष्णुता व सहिष्णुता





आजकल चर्चा है इसी बात पर की,
ज़माना असहिष्णु होता जा रहा है |
कोई वापस देता तमगा है,
तो कोई घर छोड़ जा रहा है ||

मै तो हूँ अचंभित,
सब को दिख रही असहिष्णुता,
दुम दबा के मुझसे ही,
क्यों भगा जा रहा है ||

मैंने खोजा सब जगह,
खेत-खलिहान, बाग़-बगीचे |
अन्दर-बाहर, सड़क और नदी,
पर मुझे तो कही दिख ना रहा है ||

कही फटा बम,
तो कही हो रहा हमला |
लेकिन पता नहीं क्यों,
यह भारत में ही भगा जा रहा है ||

सभी से मेरा एक ही निवेदन है,
गर मिले असहिष्णुता का पता,
दया कर मुझको बताना,
यह कहा रह रहा है ||

@ऋषभ शुक्ला

नोट :- सभी चित्र गूगल से लिए गए है |