समर्थक

Thursday, May 7, 2015

मेरी जिंदगी तेरे नाम

हम आपका इन्तजार करते रहे, 
लेकिन आप जा चुके थे |
हमने आपको रोकने कि कोशिस तो कि थी,
लेकिन रिश्तो कि डोर तोड चुके थे ||

हमने ढुढने कि कोशिस तो बहूत की,
लेकिन आप मिले ही नही |
और जब मिले तो,
आप किसी और के हो चुके थे ||

तुम ना आती ना आओ, बस तेरी याद आ जाए,
तेरे जाने से रोशन जिंदगी मे शाम हो जाए।

मैं तुझे नापसंद, तू चाहे चली जाए,
मगर जाने से पहले एक अदद जाम हो जाए।।

मगर मेरी जिंदगी से इस तरह जाने से पहले,
तेरी इक आखिरी शाम मेरे नाम हो जाए।

रोते-रोते अब मेरी उम्र हो गयी,
लेकिन तुझे याद मेरी आयी नहीं !

तू भले ही चला गया मुझे छोड़ कर, 
यादे तेरी अब तक मिटाई नहीं !!

लोग कहते है की दर्द दिल पर मत लो, 
नासूर बन जाता है !

लेकिन हम उस दर्द का क्या करे, 
जिसे वर्षो से छिपाए बैठे है !!