समर्थक

Saturday, August 5, 2017

माँ तेरे जाने के बाद



जब मै जन्मा तो मेरे लबो सबसे पहले तेरा नाम आया,
बचपन से जवानी तक हर पल तेरे साथ बिताया|



पता नहीं तू कहा चली गयी रुसवा होकर,
आज तक ना तेरा कोई पौगाम आया||


मै तो सोया हुआ था बेफिक्र होकर,
जब जागा तो न तेरी ममता, ना तुझे पाया|


मुझसे क्या ऐसी खता हो गयी,
जिसकी सजा दी तूने ऐसी की मै सह ना पाया||


तू छोड़ गयी मुझे यु अकेला,
मै तुझे आखरी बार देख भी ना पाया|


तू तो मुझे एक पल भी छोड़ती नहीं थी,
फिर तूने इतना लम्बा अरसा कैसे बिताया||


तू इक बार आ जा मुझसे मिलने,
देखना चाहता हूँ माँ तेरी एक बार काया||


Post a Comment