मेरा परिचय

मै कौन हूँ ये नहीं है जरूरी ,
मैंने क्या है पाया 
मेरा रंग कैसा है !

मै  कैसा हूँ 
मै सोचता क्या  हूँ 
मेरे पास कितना पैसा है !

इन  सवालों में ना जायें 
की ये किसी फ़िल्म के
विलेन जैसा है !

डिग्री है कितनी 
पढ़ाई क्या की 
सवाल तो गंवारों जैसा है !

तेरा नाम क्या 
कहा से आया 
अभी तक क्या-क्या कमाया !

तुम्हारी शादी हुयी की नहीं 
ये सभी सवाल तो 
चाहने वालो जैसा है  !

मै तो शक्ल से काला 
बिलकुल काला 
काली भैस जैसा हूँ  !

अक्ल से तो अल्हड़ 
मुर्ख और नकचिढ़ा 
बिलकुल बैल जैसा हूँ  !

डिग्री है पाई मैंने 
मुर्ख , भोंदू , अल्हड़ 
और भी बहूत सारे !

लेकिन कमाई  में तो 
कुबेर जैसा हूँ  !

मेरे लिए तो 
कविता , काव्य 
और कवि  !

ये सभी एक सुन्दर 
परिवार जैसा है  !

@ऋषभ शुक्ला

3 comments

Popular posts from this blog

स्वच्छ भारत अभियान

डिजिटल इंडिया

रोटी, कपड़ा और मकान